क़ाज़ी सलीम

क़ाज़ी सलीम की रचनाएँ

टूरिस्ट  हमारे पास कुछ नहीं जाओ अब हमारे पास कुछ नहीं बीते सत-जगों की सर्द राख में इक शरार भी…

2 months ago