‘क़ैसर’-उल जाफ़री

‘क़ैसर’-उल जाफ़री की रचनाएँ

बरसों के रत-जगों की थकन खा गई मुझे बरसों के रत-जगों की थकन खा गई मुझे सूरज निकल रहा था…

2 months ago