केशवदास

केशवदास की रचनाएँ

'केसव' चौंकति सी चितवै 'केसव' चौंकति सी चितवै, छिति पाँ धरिकै तरकै तकि छाँहीं। बूझिये और कहै मुख और, सु…

2 months ago