बिन जिया जीवन

कुलदीप कुमार की रचनाएँ

वह चेहरा  आज फिर दिखीं वे आँखें किसी और माथे के नीचे वैसी ही गहरी काली उदास फिर कहीं दिखे…

2 months ago