गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’

गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’ की रचनाएँ

असहयोग कर दो  असहयोग कर दो। असहयोग कर दो॥ कठिन है परीक्षा न रहने क़सर दो, न अन्याय के आगे…

2 months ago