चतुर्भुज मिश्र

चतुर्भुज मिश्र की रचनाएँ

हाय हर सुबह लहू से लथपथ है, हर शाम अनय से काली है । मानवता लगता लुप्त हुई, अब दानवता…

2 months ago