‘ज़फ़र’ इक़बाल

जयप्रकाश मानस की रचनाएँ

कोई नहीं है बैठे-ठाले  » कोई नहीं है बैठे-ठालेकीड़े भी सड़े-गले पत्तों को चर रहे हैं कुछ कोसा बुन रहे…

6 months ago

‘ज़फ़र’ इक़बाल की रचनाएँ

अभी आखें खुली हैं और क्या क्या अभी आखें खुली हैं और क्या क्या देखने को मुझे पागल किया उस…

7 months ago