‘जिगर’ बरेलवी

‘जिगर’ बरेलवी की रचनाएँ

आह हम हैं और शिकस्ता-पाइयाँ आह हम हैं और शिकस्ता-पाइयाँ अब कहाँ वो बादिया-पैमाइयाँ जोश-ए-तूफाँ है न मौंजों का ख़रोश…

1 month ago