तंग इनायतपुरी

तंग इनायतपुरी की रचनाएँ

केहू कइसे बिचारे कटी जिन्दगी केहू कइसे बिचारे कटी जिन्दगी, का गजल के सहारे कटी जिन्दगी। जिन्दगी, जिन्दगी, जिन्दगी, जिन्दगी,…

4 weeks ago