ठाकुरदास सिद्ध की रचनाएँ

बात ठाकुर की गाँव ठाकुर का, कुआँ ठाकुर का घर जो अपना था, हुआ ठाकुर का सर कटाना हो तो…

3 months ago

ठाकुर ज्ञानसिंह वर्मा की रचनाएँ

वतन के वास्ते वतन के वास्ते बस जान घुला देंगे हम, गले को शान से फांसी पे झुला देंगे हम।…

3 months ago

ठाकुर गोपालशरण सिंह की रचनाएँ

वायुयान सुंदर, सजीला, चटकीला वायुयान एक, भैया, हरे कागज का आज मैं बनाऊँगा! चढ़ के उसी पे सैर नभ की…

3 months ago

ठाकुरप्रसाद सिंह की रचनाएँ

पहली बूंद यह बादल की पहली बूँद कि यह वर्षा का पहला चुम्बनस्मृतियों के शीतल झोकों में झुककर काँप उठा…

3 months ago

ठाकुर की रचनाएँ

जौँ लौँ कोऊ पारखी सोँ होन नहिँ पाई भेँट जौँ लौँ कोऊ पारखी सोँ होन नहिँ पाई भेँटतब ही लौँ…

3 months ago