‘ताबाँ’ अब्दुल हई

‘ताबाँ’ अब्दुल हई की रचनाएँ

दाग़-ए-दिल अपना जब दिखाता हूँ दाग़-ए-दिल अपना जब दिखाता हूँ रश्क से शम्मा को जलाता हूँ वो मेरा शोख़ है…

4 months ago