फ़रहत कानपुरी

फ़रहत कानपुरी की रचनाएँ

आँखों में बसे हो तुम आँखों में अयाँ हो कर आँखों में बसे हो तुम आँखों में अयाँ हो कर…

6 months ago