फ़सीह अकमल

फ़सीह अकमल

चश्म-ए-हैरत को तअल्लुक़ की फ़ज़ा तक ले गया चश्म-ए-हैरत को तअल्लुक़ की फ़ज़ा तक ले गया कोई ख्वाबों से मुझे…

2 days ago