बलबीर सिंह ‘रंग’

बलबीर सिंह ‘रंग’की रचनाएँ

ज़माना आ गया ‎ ज़माना आ गया रुसवाइयों तक तुम नहीं आए । जवानी आ गई तनहाइयों तक तुम नहीं…

1 week ago