बहिणाबाई

बहिणाबाई की रचनाएँ

ये गोकुल चल हो ये गोकुल चल हो कहत मुरारी। मेघ तुसार निवारे फनिधर सेवा करे बलिहारी॥ बसुवा अपने कर…

3 months ago