बिन्दु जी

बिन्दु जी की रचनाएँ

हे दयामय दीन पालक अज विमल निष्काम हो हे दयामय दीन पालक अज विमल निष्काम हो। जगतपति जग व्याप्त जगदाधार…

1 week ago