बैरीसाल

बैरीसाल की रचनाएँ

दोहे  ऐसे ही इन कमल कुल, जीत लियो निज रंग। कहा करन चाहत चरन, लहि अब जावक संग॥ लसत लाल…

6 months ago