मदनगोपाल शर्मा

मदनगोपाल शर्मा की रचनाएँ

सर्दी आई ठिठुरन कंपन अकड़ दिखाती ठंड पड़ रही भारी, सूरज भैया छिपकर बैठे शायद भूले पारी। मुनिया डर कर…

2 weeks ago