मनोहर बाथम

मनोहर बाथम की रचनाएँ

दिल ज़्यादा भूकम्प से भू कम कँपी दिल गूंगा हर चौथे रोज़ ही ही दीखती थी दो तीन बरस के…

2 days ago