ममता किरण

ममता किरण की रचनाएँ

स्त्री स्त्री झाँकती है नदी में निहारती है अपना चेहरा सँवारती है अपनी टिकुली, माँग का सिन्दूर होठों की लाली,…

1 day ago