‘महशर’ इनायती

‘महशर’ इनायती की रचनाएँ

आँख में आँसू गुम औसान आँख में आँसू गुम औसान इश्‍क़़ के मारो की पहचान इक अपने चुप रहने से…

7 months ago