रमेश गौड़

रमेश गौड़ की रचनाएँ

तेरे बिन  जैसे सूखा ताल बचा रहे या कुछ कंकड़ या कुछ काई जैसे धूल भरे मेले में चलने लगे…

4 weeks ago