रसखान

रसखान की रचनाएँ

मानुस हौं तो वही मानुस हौं तो वही रसखान, बसौं मिलि गोकुल गाँव के ग्वारन। जो पसु हौं तो कहा…

3 weeks ago