रहीम

रहीम की रचनाएँ

श्रंगार-सोरठा गई आगि उर लाय, आगि लेन आई जो तिय । लागी नाहिं, बुझाय, भभकि भभकि बरि-बरि उठै ।।1।। तुरुक…

2 weeks ago