राजश्री

राजश्री की रचनाएँ

आधा आदमी और मेरी आवाज अपनी पूरी छाया से खेलता देख अपने समानान्तर अधूरी छाया कौतुक से ऊपर देखकर बच्चा…

4 weeks ago