रामजी यादव

रामजी यादव की रचनाएँ

आलू जहां मैं जाता हूं वहीं देखता हूं तुम्‍हें और मुझे अच्‍छे भी लगते हो तुम उबले हुए भुने हुए…

3 weeks ago