रामसहायदास ‘राम’

रामसहायदास ‘राम’की रचनाएँ

दोहा / भाग 1 श्री स्यामा कों करत हैं, राम सहाय प्रनाम। जिन अहिपतधर कों कियौ, सरस निरन्तर धाम।।1।। अरुन…

3 weeks ago