रियाज़ ख़ैराबादी

रियाज़ ख़ैराबादी की रचनाएँ

आईना देखते ही वो दीवाना हो गया आईना देखते ही वो दीवाना हो गया देखा किसे कि शम्अ से परवाना…

3 weeks ago