लोकमित्र गौतम की रचनाएँ

बगावत की कोई उम्र नहीं होती जब डूबते सूरज को मैंने पर्वत चोटियों को चूमते देखा जब बाग़ के सबसे…

1 month ago

लीलाधर मंडलोई की रचनाएँ

मेरा तकिया छीन लिया गया न मिले किसी रोज इस्‍तरी की गई धुली कमीज देह जैसे रूठने लगती है ना-नुकुर…

1 month ago

लीलाधर जगूड़ी की रचनाएँ

आँधी रात वह हवा चली जिसे आँधी कहते हैं उसने कुछ दरवाजे भड़भड़ाए कुछ खिड़कियाँ झकझोरीं, कुछ पेड़ गिराए कुछ…

1 month ago

लीना मल्होत्रा की रचनाएँ

तुम्हारे प्रेम में गणित था–1 वह जो प्रेम था शतरंज की बिसात की तरह बिछा हुआ हमारे बीच तुमने चले…

1 month ago

लावण्या शाह की रचनाएँ

पकी पकी फ़सल पकी पकी फसल लहराए ओढ़े पीली सरसों की चुनरिया तेरे खेत में मक्का-बाजरा, मेरे, गेहूँ की बालियाँ…

1 month ago

हरजिन्दर सिंह लाल्टू की रचनाएँ

देशभक्त दिन दहाड़े जिसकी हत्या हुई जिसने हत्या की। जिसका नाम इतिहास की पुस्तक में है जिसका हटाया गया जिसने…

1 month ago

हरजिन्दर सिंह लाल्टूकी रचनाएँ

देखो, हर ओर उल्लास है 1 पत्ता पत्ते से फूल फूल से क्या कह रहा है मैं तुम्हारी और तुम…

1 month ago

लालित्य ललित की रचनाएँ

हमारे माँ-बाप / समझदार किसिम के लोग चाहते हो मायूस होना ? क्यों चाहते हो ? किसलिए चाहते हो ? किसके लिए चाहते…

1 month ago

लाला जगदलपुरी की रचनाएँ

सज्जन कितना बदल गया है दहकन का अहसास कराता, चंदन कितना बदल गया है मेरा चेहरा मुझे डराता, दरपन कितना…

1 month ago

लालचन्द राही की रचनाएँ

मोची की व्यथा  फटे जूते सी ज़िन्दगी सीने के लिए चमड़ा काटता है वह किसी की जेब या गला नहीं…

1 month ago