लीलाधर मंडलोई

लीलाधर मंडलोई की रचनाएँ

मेरा तकिया छीन लिया गया न मिले किसी रोज इस्‍तरी की गई धुली कमीज देह जैसे रूठने लगती है ना-नुकुर…

1 month ago