वंशी माहेश्वरी

वंशी माहेश्वरी की रचनाएँ

रंग चढ़ते-उतरते हैं रंग रंग उतरते-चढ़ते हैं कितने ही रंग कर जाते हैं रंगीन जीवन मटमैला अदृश्य सीढ़ी हैं रंग…

2 months ago