वाजिद अली शाह

वाजिद अली शाह की रचनाएँ

गर्मियाँ शोखियाँ किस शान से हम  गर्मियाँ शोख़ियाँ किस शान से हम देखते हैं क्या ही नादानियाँ नादान से हम…

2 months ago