विभा रानी श्रीवास्तव

विभा रानी श्रीवास्तवकी रचनाएँ

हाइकु -1 झरता पत्ता - मैं कब्रों के बीच में निशब्द खड़ी। चाल में सर्प श्रृंग से भू पे जल-…

2 months ago