वियोगी हरि

वियोगी हरि की रचनाएँ

महाराणा प्रताप अणु-अणु पै मेवाड के, छपी तिहारी छाप। तेरे प्रखर प्रताप तें, राणा प्रबल प्रताप॥ जगत जाहिं खोजत फिरै,…

1 month ago