वेणु गोपाल

वेणु गोपाल ’की रचनाएँ

अंधेरा मेरे लिए रहती है रोशनी लेकिन दिखता है अंधेरा तो कसूर अंधेरे का तो नहीं हुआ न! और न…

1 month ago