शमशाद इलाही अंसारी

शमशाद इलाही ‘शम्स की रचनाएँ

मैं हर बार मुसलमान बना दिया जाता हूँ ये मेरा शहरजिंदगी और उसकी जुस्तजू सेलबरेज़ शहरजाने क्यों अ़ज़ीज बन गया…

3 months ago