‘शमीम’ करहानी

‘शमीम’ करहानी की रचनाएँ

अगरचे इश्क़ में इक बे-ख़ुदी सी रहती है  अगरचे इश्क़ में इक बे-ख़ुदी सी रहती हैमगर वो नींद भी जागी…

3 months ago