शिव

शिव की रचनाएँ

कँटक ते अटकि अटकि सब आपुहीँ ते  कँटक ते अटकि अटकि सब आपुहीँ ते , फटिगे बसन तिन्हैँ नीके कै…

2 months ago