शिशु पाल सिंह ‘शिशु’

शिशु पाल सिंह ‘शिशु’की रचनाएँ

शिशु दोहावली  (१) जीव अनेकों में रमे, यद्यपि हो तुम एक, नाथ! तुम्हे कितने कहे, एक कहें कि अनेक (२)…

2 months ago