शुजाअ खावर

शुजाअ खावर की रचनाएँ

और क्या इस शहर में धंधा करें ख़्वाब इतने हैं यही बेचा करें और क्या इस शहर में धंधा करें…

2 months ago