अमित कल्ला

अमित कल्ला की रचनाएँ

बूढ़े पंखों का सहारा ले बूढे पंखों का सहारा ले रंग छिपे पहाडो तक जा पहुचते आप ही उत्त्पन दिलासाओं…

2 months ago