अम्बिकाप्रसाद वर्मा ‘दिव्य’

अम्बिकाप्रसाद वर्मा ‘दिव्य’ की रचनाएँ

एक-रदन कुंजर-बदन, लम्बोदर लघु-नैन। सिद्धि लही जग सुमिर तुहिं, कस पाँऊ गौ मैं न।।1।। फाँदि दीठि-गुनि मन-घटहिं, रूप-कूप में डारि।…

3 months ago