कविता गौड़

कविता गौड़ की रचनाएँ

सोच  सोच टूटे दरख़्त टूटे घर टूटे रिश्ते बड़े होटल बड़े काम्पलेकस बड़े देश बड़ी लालसा बड़ी रिश्वत बड़ी शत्रुता…

2 months ago