चंद्रपाल सिंह यादव ‘मयंक’

चंद्रपाल सिंह यादव ‘मयंक’की रचनाएँ

जादूगर अलबेला छू, काली कलकत्ते वाली! तेरा वचन न जाए खाली। मैं हूँ जादूगर अलबेला, असली भानमती का चेला। सीधा…

2 months ago