ज़फ़र अज्मी

ज़फ़र अज्मी की रचनाएँ

आ के जब ख़्वाब तुम्हारे ने कहा बिस्मिल्लाह आ के जब ख़्वाब तुम्हारे ने कहा बिस्मिल्लाह दिल मुसाफ़िर थके हारे…

7 months ago