ताहिर वारसी

ताहिर वारसी की रचनाएँ

ख़ुश्क ज़ख़्मों को कुरेदा जाएगा ख़ुश्क ज़ख़्मों को कुरेदा जाएगा दश्त में दरिया को ढूँढा जाएगा याद-ए-माज़ी इक तिलिस्मी ग़ार…

4 months ago