ममता व्यास

ममता व्यास की रचनाएँ

शब्दवती मैंने जाना शब्द कैसे पनपते हैं भीतर तुम मुझे शब्दवती करते थे हर बार मन की कोख हरी होती…

1 week ago