मंजुल मयंक

मंजुल मयंक की रचनाएँ

रात ढलने लगी, चाँद बुझने लगा रात ढलने लगी, चाँद बुझने लगा, तुम न आए, सितारों को नींद आ गई…

2 weeks ago