राम सेंगर

राम सेंगर की रचनाएँ

अकड़ गया रमजानी रात अन्धेरी, भूड़[1] और ज़ालिम बम्बा का पानी । इत मून्दे, उत फूटे किरिया-भरा न दीखे फरुआ चले…

3 weeks ago