लक्ष्मीकान्त मुकुल

लक्ष्मीकान्त मुकुल की रचनाएँ

पांव भर बैठने की जमीन यहां अब नहीं हो रही हैं सेंध्मारियां बगुले लौट रहे हैं देर रात अपने घोसले…

2 months ago

लक्ष्मीकान्त मुकुल की रचनाएँ

छनो भर खातिर उनुका लगे ना रहे कौनो टाट के मड़ई आ फूंस-मूंजन के खोंता ऊ चिरई ना रहन भा…

2 months ago